कब मिलेगी कोरोना की वैक्सीन?:स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- 2021 की पहली तिमाही में कोरोना की वैक्सीन देश में उपलब्ध होगी

सोमवार को देश में संक्रमितों की संख्या 60 लाख के पार हो गई। वहीं, अब तक 95 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। हर्षवर्धन ने कहा कि देश मे

खत्म हुई राहुल की WFH पॉलिटिक्स, लॉकडाउन खुलते ही नापने लगे सड़क..
हाथरस की गैंगरेप पीड़िता हार गई जिंदगी की जंग, सफदरजंग अस्पताल में इलाज के दौरान मौत
ट्रैक्टर जलाने पर मोदी का वार- जिसकी पूजा करता है किसान, विपक्ष ने उसे आग लगा दी
सोमवार को देश में संक्रमितों की संख्या 60 लाख के पार हो गई। वहीं, अब तक 95 हजार से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है।
  • हर्षवर्धन ने कहा कि देश में अभी संभावित वैक्सीन के लिए 3 कैंडिडेट हैं, जो क्लीनिकल ट्रायल के चरण में पहुंच गए हैं
  • देश में 24 घंटे के भीतर नए कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 82 हजार 170 को पार कर गया है

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने सोमवार को कहा कि भारत में कोरोना संक्रमण का मुकाबला करने वाली पहली वैक्सीन 2021 की शुरुआत में आ जाएगी। वैक्सीन डेवलप करने के लिए रिसर्च का काम बहुत तेजी से पूरा किया गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि देश में अभी संभावित वैक्सीन के लिए 3 कैंडिडेट हैं, जो क्लीनिकल ट्रायल के चरण में पहुंच गए हैं। हमें उम्मीद है कि 2021 की पहली तिमाही में ही देश में वैक्सीन उपलब्ध होगी। भारत में 24 घंटे के भीतर नए कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 82 हजार 170 को पार कर गया है। सोमवार को देश में संक्रमितों की संख्या 60 लाख के पार हो गई। ये आंकड़े स्वास्थ्य मंत्रालय ने मुहैया करवाए हैं।

कोविड वैक्सीन के लिए पोर्टल लॉन्च
स्वास्थ्य मंत्री ने सोमवार को ही कोविड वैक्सीन के लिए ऑनलाइन पोर्टल लॉन्च किया। इस पोर्टल पर वैक्सीन से जुड़ी सारी रिसर्च और डेवलपमेंट के अलावा इसकी लॉन्च डेट व अन्य जानकारियां मौजूद रहेंगी। यहां लोग ऑनलाइन जाकर वैक्सीन के बारे में अपनी जरूरत की जानकारी हासिल कर सकते हैं। इसके अलावा दूसरी वैक्सीन के बारे में भी जानकारी पोर्टल पर मौजूद रहेगी।

आईसीएमआर के लिए ऐतिहासिक दिन

इस मौके पर हर्षवर्धन ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की 100 साल की टाइमलाइन भी जारी की। उन्होंने कहा कि आज आईसीएमआर के लिए ऐतिहासिक दिन है और मेरे लिए 100 साल की टाइमलाइन जारी करना गर्व का विषय है। यह इस संस्थान से जुड़े वैज्ञानिकों के काम के बारे में बताएगी और साथ ही आने वाले वैज्ञानिकों के लिए प्रेरणा का काम करेगी।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0