कोरोना के बीच रैलियों में भीड़ पर बोले तेजस्वी- हाथ में डंडा तो नहीं ले सकते…

आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (फाइल फोटो) बिहार विधानसभा चुनाव में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव की जनसभा और रैली में भारी भीड़ उमड़ रही है.

मधुबनी: रैली में नीतीश पर एक शख्स ने फेंके पत्थर-प्याज, सीएम बोले- फेंको खूब फेंको
घोषणा पत्र नहीं है बल्कि यह हमारा संकल्प है – डाॅ. प्रेम कुमार
लक्ष्मणपुर बाथे: ‘लाशें ट्रैक्टर में भरकर लाई गई थीं’
आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)आरजेडी नेता तेजस्वी यादव (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव में आरजेडी नेता तेजस्वी यादव की जनसभा और रैली में भारी भीड़ उमड़ रही है. बुधवार को तेजस्वी यादव ने खास बातचीत में कई मुद्दों पर अपनी राय रखी. कोरोना काल में रैली में उमड़ रहे जनसैलाब पर तेजस्वी ने कहा कि हम भीड़ को कैसै रोक सकते हैं. हम डंडा लेकर तो खड़े नहीं हो सकते…

कोरोना को देखते हुए हमने चुनाव आयोग से वोटरों के इंश्योरेंस की मांग की थी. साथ ही हालात बेहतर ना होने पर चुनाव आगे कराने की भी बात कही थी, लेकिन अब चुनाव हो रहा है तो हम भी मैदान में हैं. आगे तेजस्वी ने कहा कि हर वर्ग के लोग नीतीश कुमार से नाराज और निराश हैं. वो अपने काम का हिसाब क्यों नहीं दे रहे हैं. तेजस्वी ने पूछा कि नीतीश कुमार ने कितने प्रवासी मजूदरों को नौकरी दी है?

10 लाख नौकरी देने के सवाल पर तेजस्वी ने कहा कि नौकरी पर हमने झूठा वादा नहीं किया है. अगर वादा करना होता तो करोड़ों का वादा करते. बिहार में 4.5 लाख सरकारी पद खाली हैं. हम सत्ता में आएंगे तो इन खाली पदों पर नियुक्तियां होंगी. नौकरी को लेकर बजट में कोई कमी नहीं आएगी.

प्रचार में राबड़ी देवी और पोस्टर से लालू यादव के गायब होने के सवाल पर तेजस्वी ने कहा कि लालू यादव जनता के दिल में रहते हैं. उनका पोस्टर में होना ना होना कोई मसला नहीं है. 2105 में हम नीतीश कुमार के साथ चुनाव लड़े थे, लेकिन वो चोर दरवाजे से बीजेपी को लेकर आए. उन्होंने जनादेश का अपमान किया था.

उस वक्त चुनाव में नीतीश कुमार चेहरा थे. उन्हीं के नाम के पोस्टर लगे थे ‘बिहार में बहार है, नीतीशे कुमार हैं.’ ये पोस्टर वाला सवाल जिसने उठाया था, अब उसे ही इसका जवाब देना चाहिए. लालू यादव मास लीडर हैं और इस बार चुनाव जनता बनाम सरकार हो चुका है.

क्यों बदली गई तेज प्रताप यादव की सीट?

तेज प्रताप यादव का विधानसभा क्षेत्र बदलने पर तेजस्वी यादव ने कहा कि हार का डर नहीं है. तेज प्रताप ने महुआ में मेडिकल कॉलेज दिया है. 900 करोड़ रोड के लिए दिया है. पहले वहां सड़क पर चल नहीं सकते थे. अब वहां की तस्वीर अलग है. पार्टी का अपना कॉम्बिनेशन होता है. मोदी जी बनारस क्यों गए चुनाव लड़ने के लिए? गुजरात से भी लड़े, बनारस से भी लड़े. इसलिए तेज प्रताप के हसनपुर से लड़ने से गंगा उस पार के लोगों को प्रतिनिधित्व मिलेगा. इससे लोग जुड़ा हुआ महसूस करेंगे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0