बिहार के किशनगंज में टूटा पुल, चुनाव से पहले थी उद्घाटन की तैयारी

चुनाव से पहले जब पूरे बिहार में उद्घाटन और शिलान्यास हो रहे हैं, ऐसे में किशनगंज जिले में फिर एक निर्माणाधीन पुल टूट गया है. माना जा रहा था कि ज

सीएम योगी का ऐलान, UP में बनेगी देश की सबसे खूबसूरत फिल्म सिटी
ट्रैक्टर जलाने पर मोदी का वार- जिसकी पूजा करता है किसान, विपक्ष ने उसे आग लगा दी
पांच महीनों बाद फिर से भक्तों को होंगे माता के दर्शन, 16 अगस्त से शुरू होगी वैष्णो देवी यात्रा
Under Construction New Bridge Collapse in Kishanganj Bihar

चुनाव से पहले जब पूरे बिहार में उद्घाटन और शिलान्यास हो रहे हैं, ऐसे में किशनगंज जिले में फिर एक निर्माणाधीन पुल टूट गया है. माना जा रहा था कि जल्द ही इसका उद्घाटन होने वाला था. किशनगंज के दिघलबैंक प्रखंड के पथरघट्टी पंचायत के गोआबाड़ी गांव में कन्कई नदी की बरसाती धार में बन रहे निर्माणाधीन पुल का एक पाया धंस गया. इसके बाद देखते ही देखते पूरा का पूरा पुल टूट गया. यह पुल बनकर पूरी तरह से तैयार था. सिर्फ एप्रोच रोड बनना बाकी था. माना जा रहा था कि चुनाव से पहले इसका उद्घाटन होता.

Under Construction New Bridge Collapse in Kishanganj Bihar

इस पुल को बनाने में करीब 1.42 करोड़ रुपये की लागत आई थी. यह 26 मीटर स्पैन का पुल था. पुल टूटने की घटना 16 सितंबर यानी मंगलवार रात की है. बताया जा रहा है कि लगातार दो दिनों से हो रही बारिश की वजह से नदी की धार बदल गई. धार उस इलाके से निकली जहां पर निर्माणाधीन पुल था.

Under Construction New Bridge Collapse in Kishanganj Bihar

पुल के पास 20 मीटर का डायवर्जन बनाना था लेकिन यह नहीं बनाया गया. इसकी वजह से नदी की धार घूम गई और पुल टूट गया. डायवर्जन बना होता तो नदी की धार नहीं बदलती और पुल नहीं गिरता. लेकिन टूटने के बाद मलबा पानी में बह गया.

Under Construction New Bridge Collapse in Kishanganj Bihar

गोआबाड़ी पुल जिस इलाके में बनाया जा रहा है, वह इलाका इन दिनों बाढ़ की मार झेल रहा है. इलाका कई दिनों से पानी में डूबा हुआ है. कई दिनों से जारी बारिश के चलते पथरघट्टी के पास कनकई नदी का बहाव तेज हो गया और इस बहाव में पुल भी बह गया. पुल के बह जाने के बाद यह पूरा इलाका किसी टापू समान दिखाई दे रहा है.

Under Construction New Bridge Collapse in Kishanganj Bihar

बताया जा रहा है कि पुल का निर्माण कार्य पूरा होते ही पुल का उद्घाटन होने वाला था, लेकिन उससे पहले ही पुल बह गया. जिससे ग्रामीणों की मुश्किलें बढ़ गई हैं. ग्रामीणों का आरोप है कि पुल बनाने में लापरवाही बरती गई है, जिससे ये घटना घटी है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0