यूपी में फिल्म सिटी को लेकर योगी आदित्यनाथ की मीटिंग, उदित नारायण ने जताया आभार

उदित नारायण उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाए जाने की मांग काफी सालों से की जा रही है. यूपी में फिल्म सिटी बनाने का प्रयास पहले भी ह

नोएडा में बनेगा देश का पहला एयरोट्रोपोलिस, बदलेगी इलाके की तस्वीर?
नेपाल ने फिर दिखाई भारत को आंख, कहा- कुछ भी कर लें, चीन से हमारा रिश्ता अटूट
घोषणा पत्र नहीं है बल्कि यह हमारा संकल्प है – डाॅ. प्रेम कुमार
उदित नारायण उदित नारायण

उत्तर प्रदेश में फिल्म सिटी बनाए जाने की मांग काफी सालों से की जा रही है. यूपी में फिल्म सिटी बनाने का प्रयास पहले भी हुआ है लेकिन यह सफल नहीं हो सका. इस वक्त प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार है और अब योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के कलाकारों का ये सपना साकार करने का बीड़ा उठाया है.

योगी आदित्यनाथ एक एक मीटिंग के लिए उदित नारायण और अन्य कई कलाकारों को एक मीटिंग में मंगलवार को आमंत्रित किया था. रजनीकांत की बेटी सौंदर्या रजनीकांत वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए इस चर्चा में जुड़ीं. उदित नारायण ने इस मीटिंग में योगी आदित्यनाथ के सम्मान में कुछ लाइनें गाईं और स्वदेश फिल्म का गाना सुन मितवा भी गाया. उनका सभी ने तालियों से अभिनंदन किया.

सौंदर्या रजनीकांत ने इस मीटिंग में अपनी राय रखते हुए कहा कि फिल्म सिटी का निर्माण करते हुए उन्हें एनिमेशन के बारे में खास तौर पर सोचना चाहिए.  खास बातचीत में सौंदर्या ने कहा, “हमारी बहुत से बिंदुओं पर बात हुई. मेरी योगी जी को यही राय रही कि हमें एनिमेशन को एक बहुत महत्वपूर्ण माध्यम के तौर पर शामिल किया जाना चाहिए.”

“अगर आप हॉलीवुड में देखेंगे तो लाइव एक्शन के साथ साथ एनिमेशन भी आगे बढ़ रहा है लेकिन भारत में एनिमेशन उतना सफल नहीं है. तो मैंने उनसे निवेदन किया कि एनिमेशन को शामिल किया जाए.” दीपिका मामले पर सौंदर्या ने कुछ भी कहने से साफ इनकार किया और सवाल के बीच में ही कहा कि वह इस बारे में कुछ भी नहीं कहना चाहेंगी और इस कॉल पर जुड़कर उन्हें काफी खुशी हुई.

 

क्या बोलीं मालिनी अवस्थी

मालिनी अवस्थी ने इस बारे में कहा, “यूपी अच्छी तरह जानता है कि इस तरह की कोशिशें पहले भी हुई हैं लेकिन ये योजना कभी अमल में नहीं लाई गई. यूपी के वर्तमान मुख्यमंत्री हाथ में जो काम ले लेते हैं उसे पूरा करते हैं. ये समय की मांग है. मुंबई के बाद हैदराबाद में रामोजी राव ने एक विकल्प पेश किया और वो विकल्प सफल हुआ. वहां कमाल की फिल्में बनती हैं. आज भी भारत में जनता के लिए मनोरंजन का सबसे बड़ा विकल्प फिल्में हैं और इसमें जितने ज्यादा विकल्प हमारे सामने होंगे उतना अच्छा है.”

योगी आदित्यनाथ ने मीटिंग का हिस्सा बने सभी लोगों को हनुमान चालीसा, राम जन्मभूमि से जुड़े स्मृति चिह्न, श्रीमदभागवत गीता और तुलसी की माला भेंट की.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0