सितंबर की शुरुआत में भारत और चीन ने ‘चेतावनी के तौर पर’ 100-200 गोलियां दागीं : सूत्र

नई दिल्ली:  सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि सितंबर के शुरुआती दिनों में पैंगॉन्ग झील के उत्तरी किनारे पर भारत

Bihar Election Live : तेजस्वी ने बेरोजगारों के लिए खोली वेबसाइट,
राजस्थान: विधायकों के दबाव के आगे झुकी गहलोत सरकार, तबादलों से पाबंदी हटाई
दिल्ली में 169 दिनों बाद मेट्रो सेवा आज से शुरू, सफर के दौरान इन बातों का रखें विशेष ख्याल
सितंबर की शुरुआत में भारत और चीन ने 'चेतावनी के तौर पर' 100-200 गोलियां दागीं : सूत्र

सूत्रों के हवाले से जानकारी मिली है कि सितंबर के शुरुआती दिनों में पैंगॉन्ग झील के उत्तरी किनारे पर भारत और चीन की तरफ से वॉर्निंग शॉट्स फायर किए गए थे. जानकारी है कि भारत और चीन ने ‘चेतावनी के तौर पर’ 100-200 गोलियां दागीं थीं. सूत्रों ने बताया है कि यह घटना तब हुई जब भारतीय सेना के जवान चीनी सैनिकों पर नजर रखने के लिए एक पोस्ट बना रहे थे. भारत का फिंगर 3 और 4 की चोटियों पर नियंत्रण है. यह घटना विदेश मंत्री एस जयशंकर की 10 सितंंबर को मॉस्को में उनके समकक्ष वांग यी से मुलाकात के कुछ दिन पहले हुई थी. दोनों देशों के प्रतिनिधियों ने लद्दाख पर लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल पर तनाव कम करने को लेकर समझौता किया था.

इस मीटिंग के बाद दोनों देशों की ओर से एक संयुक्त बयान जारी किया गया था, जिसमें बताया गया कि दोनों देश पांच सूत्रीय समझौते पर सहमत हुए हैं, जिसमें बातचीत, तुंरत डिस्इंगेजमेंट की प्रक्रिया शुरू करने, उचित दूरी बनाकर रखने, तनाव कम करने और विश्वास बढ़ाने के लिए कदम उठाने की बात कही गई है.

अभी पिछले हफ्ते ही एक और मौके पर चीन ने लद्दाख के पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी किनारे पर भारतीय जवानों की मौजूदगी की ओर बढ़कर यथास्थिति को बदलने की कोशिश की थी. यहां पर चीन ने वॉर्निंग शॉट्स भी फायर किए थे.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0