सुरेश रैना ने याद किया संघर्ष, कैसे कश्मीर से घर छोड़कर उन्होंने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में बनाया नाम

Image Source : IPLT20.COMSuresh Raina कोरोना महामारी के कारण इंडियन प्रीमीयर लीग ( आईपीएल ) का आगाज 19 सितंबर से यूएई में होना है। इसी बीच आईपीएल के

IPL: RCB में स्टार खिलाड़ियों की भरमार, कोहली के सामने ये मुश्किल चुनौती
PUBG समेत 118 ऐप्स बैन होने पर बौखलाया चीन, भारत से अपनी गलती सुधारने को कहा
सचिन के खिलाफ कैट ने खोला मोर्चा, चीनी निवेश वाली कंपनी का ब्रांड एंबेसडर बनने पर नाराज
Suresh Raina- India TV Hindi
Image Source : IPLT20.COMSuresh Raina

कोरोना महामारी के कारण इंडियन प्रीमीयर लीग ( आईपीएल ) का आगाज 19 सितंबर से यूएई में होना है। इसी बीच आईपीएल के 13वें सीजन से पहले चेन्नई सुपर किंग्स को बड़ा झटका लगा है। जहां उसके दो खिलाड़ी दीपक चाहर और ऋतुराज गायकवाड़ कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं वहीं टीम के उपकप्तान व चिन्ना थाला कहे जाने वाले सुरेश रैना अचानक टीम का साथ छोड़कर भारत लौटे आए हैं। जिसके बारे में कई तर्क दिए जा रहे हैं कि रैना डकैतों द्वारा पठानकोट में रिश्तेदारों पर हमला होने के कारण वापस आए तो वहीं चेन्नई सुपर किंग्स के सीईओ का मानना है कि दुबई में अच्छा होटल का कमरा ना मिलने का कारण नाराज होकर रैना आईपीएल से आनन – फानन वापस आ गए हैं। हालांकि इसी बीच रैना ने एक इंटरव्यू में अपने क्रिकेट के फर्श से लेकर अर्श तक एक सफर को याद किया है। जिसमें उन्होंने बताया कि कितने संघर्षों के बाद उन्होंने अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी पहचान बनाई।

रैना ने निलेश मिश्र के ‘द स्लो इंटरव्यू’ में बताया कि उनके परिवार में आठ लोग थे और उस समय दिल्ली में क्रिकेट अकादमियों का मासिक शुल्क पांच से 10 हजार रूपये प्रति महीना था। इस दौरान लखनऊ के गुरू गोविंद सिंह खेल कॉलेज में उनका चयन हुआ और फिर सब कुछ बदलकर एक इतिहास बन गया। रैना ने कहा, ”पापा सेना में थे, मेरे बड़े भाई भी सेना में हैं। पापा अयुध फैक्ट्री में बम बनाने का काम करते थे। उन्हें उस काम में महारत हासिल थी।”

गौरतलब है कि रैना एक कश्मीरी पंडित हैं। साल 1990 में कश्पंमीर में पंडितों के खिलाफ अत्याचार होने पर उनके पिता रैनावाड़ी में सबकुछ छोड़कर उत्तर प्रदेश के मुरादनगर आ गए थे। जिसके बारे में रैना ने कहा, “मेरे पिता का मानना था कि जिंदगी का सिद्धांत दूसरों के लिए जीना है। अगर आप केवल अपने लिए जीते हैं तो वह कोई जीवन नहीं है। बचपन में जब मैं खेलता था तब पैसे नहीं थे। पापा 10 हजार रुपये कमाते थे और हम पांच भाई और एक बहन थे। फिर मैंने 1998 में लखनऊ के गुरु गोबिंद सिंह खेल कॉलेज में ट्रायल दिया। हम उस समय 10,000 का प्रबंधन नहीं कर सकते थे।”

रेने ने आगे अपने जीवन के बारे में कहा, ”यहां फीस एक साल के लिए 5000 रुपये थी इसलिए पापा ने कहा कि वह इसका खर्च उठा सकते हैं। मुझे और कुछ नहीं चाहिए था, मैंने कहा मुझे खेलने और पढ़ाई करने दो।”

रैना ने आगे बताया कि वो हमेशा अपने पापा से कश्मीर के बारे में चर्चा करने से बचते थे। क्योंकि इससे उनके पिता और दुखी हो जाते थे। इसलिए वो दो से तीन बार कश्मीर गए लेकिन कभी अपने पिता को इसके बारे में उन्होंने नहीं बताया। रैना ने कहा, “मैं एलओसी पर दो से तीन बार गया हूं। मैं माही भाई (महेन्द्र सिंह धोनी) के साथ भी गया था, हमारे कई दोस्त हैं जो कमांडो हैं।

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0