हाथरस कांड के आरोपियों की जेल से चिट्ठी- हम बेकसूर, ये ऑनर किलिंग का मामला

पीड़िता के परिवार से बात करते अफसर  हाथरस कांड के आरोपियों ने जेल से पुलिस अधीक्षक (एसपी) को चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में चारों आर

रेप केस पर अनुष्का शर्मा ने जाहिर किया गुस्सा, लड़कों की परवरिश पर उठाए सवाल
हाथरस केस: शिवसेना का CM योगी पर हमला, कहा- राहुल का अपमान लोकतंत्र का ‘गैंगरेप’
हाथरस गैंगरेप: पीड़िता का जबरन अंतिम संस्कार किए जाने पर भड़के जावेद अख्तर, वो सोचते हैं बच जाएंगे
पीड़िता के परिवार से बात करते अफसर (फाइल फोटो)पीड़िता के परिवार से बात करते अफसर 

हाथरस कांड के आरोपियों ने जेल से पुलिस अधीक्षक (एसपी) को चिट्ठी लिखी है. इस चिट्ठी में चारों आरोपियों ने कहा कि वह निर्दोष हैं. घटना के मुख्य आरोपी संदीप ने दावा किया है कि पीड़िता के साथ उसकी दोस्ती थी, जिससे उसका परिवार नाराज था. संदीप के मुताबिक, यह पूरा मामला ऑनर किलिंग का है.

एसपी को भेजे गए चिट्ठी में संदीप ने कहा कि पीड़िता के साथ मेरी दोस्ती थी. मुलाकात के साथ मेरी कभी-कभी उससे फोन पर बात हो जाती थी. मेरी यह दोस्ती उसके घर वालों को पसंद न थी. घटना के दिन पीड़िता ने मुझे मिलने के लिए खेत में बुलाया था, जब मैं वहां गया तो पीड़िता के साथ उसकी मां और भाई मौजूद थे.

अपने चिट्ठी में आरोपी संदीप ने कहा कि पीड़िता के कहने पर मैं अपने घर चला गया. अपने पिता के साथ पशुओं को पानी पिला रहा था, तभी मुझे खबर मिली कि पीड़िता की मां और उसके भाई ने पिटाई की है. उसे गंभीर चोट आई थी. बाद में उसकी मौत हो गई. संदीप ने कहा कि मैंने कभी भी पीड़िता तो मारा नहीं है और न ही कोई गलत काम किया.

एसपी को लिखी गई चिट्ठी

संदीप का कहना है कि इस मामले में हम निर्दोष हैं. मेरे रिश्तेदार रवि और शमू को भी फंसाया गया. साथ ही लवकुश का नाम भी डाला गया है. हम चारों निर्दोष हैं और पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग करते हैं. हाथरस जेल अधीक्षक ने चिट्ठी लिखे जाने की पुष्टि की है. हालांकि, अभी तक एसपी की ओर से कोई बयान नहीं आया है.

गौरतलब है कि गांव के कई लोग भी पूरे मामले की निष्पक्ष जांच की मांग कर रहे हैं. बात करते हुए कई लोगों ने कहा था कि हमारे लड़के निर्दोष हैं, उन्हें फंसाया जा रहा है. मामले की सीबीआई जांच के साथ दोनों पक्षों का नार्को टेस्ट होना चाहिए. वहीं, पीड़िता के परिवार की भी मांग है कि दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0