हाथरस कांड: चंद्रशेखर बोले- अबतक पीड़ित परिवार से क्यों नहीं मिले CM, कब होगा DM पर एक्शन?

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर हाथरस गैंगरेप कांड को लेकर देश में लगातार राजनीतिक बहस जारी है. इस मामले की एसआईटी जांच हो रही है और रा

हाथरस कांडः आरोपी से बात करने पर परिवार की सफाई- आरोप झूठा, हम क्यों बात करेंगे
हाथरस केस: गिरफ्तार PFI कार्यकर्ताओं से आज पूछताछ करेगी ED, सवालों की लिस्ट तैयार
हाथरस कांड LIVE: एक्शन में CBI, पूछताछ के लिए पीड़िता के दोनों भाई और पिता को बुलाया
भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखरभीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर
हाथरस गैंगरेप कांड को लेकर देश में लगातार राजनीतिक बहस जारी है. इस मामले की एसआईटी जांच हो रही है और राज्य सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की है. बुधवार को इस मसले पर भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने  बात की. चंद्रशेखर ने कहा कि सरकार न्याय नहीं दे सकती है तो आरोप लगा रही है. लंबे वक्त तक केस दर्ज नहीं हुआ, 14 दिन तक मुख्यमंत्री क्या कर रहे थे.

चंद्रशेखर बोले कि अगर मामला कोर्ट में है तो जातीय पंचायत क्यों हो रही है, जिन्होंने गलत किया है उन्हें सजा मिले. पीड़िता के परिवार को सीबीआई पर भरोसा नहीं है इसलिए जज की निगरानी में जांच जरूरी है. यूपी सरकार सिर्फ मुद्दे को भटका रही है, आधी रात को पीड़िता को जला दिया और घर वालों को बंद कर दिया गया.

भीम आर्मी चीफ ने कहा कि कल को हाथरस में कुछ भी हो जाए और भीम आर्मी पर आरोप लगाया जा सकता है. अबतक पीड़ित परिवार गांव में क्यों है, अगर सीबीआई को जांच दे दी गई है तो एसआईटी को एक्सटेंशन क्यों दिया गया है.

भीम आर्मी प्रमुख ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अबतक क्यों पीड़ित परिवार को लखनऊ नहीं बुलाया, क्या दलितों से बदबू आती है? उन्होंने कहा कि कल को इस मामले को ऑनर किलिंग घोषित किया जा सकता है.

‘छवि बचाने की कोशिश में जुटी सरकार’
भीम आर्मी प्रमुख ने कहा कि सरकार कह रही है रेप नहीं हुआ, शव को जबरदस्ती जलाया गया, परिवार को बंद किया गया. जिसके बाद लोगों में गुस्सा आया, फिर सरकार ने तीन दिन तक विचार करने के बाद मामले का पूरा एंगल बदल दिया गया. अब सरकार अपनी छवि बचाने की कोशिश कर रही है. अगर कोई दोषी है तो सरकार सजा दे दे. चंद्रशेखर ने पूछा कि अगर सीबीआई को जांच दे दी गई तो फिर SIT क्यों जांच कर रही है.

आरोपी और पीड़िता परिवार के बीच बातचीत पर चंद्रशेखर ने कहा कि 6 महीने में सिर्फ 100 कॉल हैं, हमारे लोग तो उनके यहां काम करते हैं, क्या गांव में संवाद नहीं होता है. पीड़िता को जला दिया गया, लेकिन उसके जाने के बाद भी पीड़िता के साथ अपमान किया जा रहा है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0