हाथरस केस: गिरफ्तार PFI कार्यकर्ताओं से आज पूछताछ करेगी ED, सवालों की लिस्ट तैयार

कथित दंगों की साजिश के आरोप में गिरफ्तार किए गए PFI कार्यकर्ता हाथरस कांड में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच का आज दूसरा दिन है. प

हाथरस कांड: आज भी जारी रहेगा सीबीआई का एक्शन, आरोपियों की रिमांड लेने की कोशिश
हाथरस पर बीजेपी को घेर रही थी RJD, दलित नेता की हत्या पर ‘फंसे’ तेजस्वी
Sushant Singh Rajput Case: हत्या या आत्महत्या, एम्स पैनल ने सीबीआई को सौंपी रिपोर्ट
कथित दंगों की साजिश के आरोप में गिरफ्तार किए गए PFI कार्यकर्ता (फाइल फोटो-PTI)कथित दंगों की साजिश के आरोप में गिरफ्तार किए गए PFI कार्यकर्ता
हाथरस कांड में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) जांच का आज दूसरा दिन है. पहले दिन कई घंटे की जांच पड़ताल हो चुकी है. वहीं, इस घटना के बहाने दंगों की साजिश के मामले में गिरफ्तार चार पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) सदस्यों से आज प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) पूछताछ करने वाली है. सवालों की लिस्ट तैयार है.

दंगों की साजिश के मामले में गिरफ्तार मसूद से आज ईडी की टीम कई सवाल पूछ सकती है. जैसे- जांच में पता चला PFI के अकाउंट से विशेष उद्देश्य के लिए पैसे मिले, उद्देश्य क्या था? बताया गया की आप दिल्ली के PFI के जनरल सेक्रेटरी मोहम्मद इलियास के संपर्क में थे, इलियास से क्या बात होती थी? क्या आपको पता है कि इलियास दिल्ली दंगों की फंडिंग के आरोप में गिरफ्तार हुआ था?

इसके अलावा मसूद से ईडी पूछ सकती है कि क्या इलियास ने आपको हाथरस जाने को कहा था? दिल्ली दंगों में क्या आपकी कोई भूमिका थी? एजेंसी का कहना है आपकी भूमिका संदिग्ध थी. हाथरस आप किस लिये जा रहे थे? एजेंसी का कहना है कि आप साजिश की तहत दंगे फैलाने जा रहे थे. आपके साथ जो लोग पकड़े गए हैं, वो आप के साथ क्यों और किस मकसद से थे.

मसूद से ईडी पूछ सकती है कि आपको कितने पैसे मिले थे? क्या हाथरस में पीएफआई के और लोग भी हैं ? हाथरस जाकर आपका वहां क्या प्लान था?

गौरतलब है कि पीएफआई के कथित चारों सदस्यों को पुलिस ने यमुना एक्सप्रेस से उस वक्त गिरफ्तार किया, जब ये हाथरस की पीड़ित परिवार से मिलने जा रहे थे. पुलिस के मुताबिक, इन चारों संदिग्धों के तार उन लोगों से जुड़े हैं, जो दंगा भड़काते हैं और शांति भंग करते हैं. शांति भंग करने के लिए हवाला के जरिए आए पैसे के इस्तेमाल का भी आरोप लगा है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0