LIVE: पीएम मोदी ने किया दो आयुर्वेद संस्थानों का उद्घाटन, बोले- दुनिया में वोकल होना जरूरी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गुजरात और राजस्थान में दो आयुर्वेद संस्थानों का उद्घाटन किया. पीएम मोदी

जैसलमेर में जवानों संग दिवाली मना सकते हैं पीएम मोदी, CDS-सेना प्रमुख भी होंगे साथ
Live: अहमदाबाद में Zydus बायोटेक पार्क पहुंचे PM मोदी, कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का ले रहे हैं जायजा
प्रॉपर्टी कार्ड कैसे मिलेगा, SVAMITVA योजना से कैसे बदलेगी गांवों की तस्वीर?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को गुजरात और राजस्थान में दो आयुर्वेद संस्थानों का उद्घाटन किया. पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में आयुर्वेद की परंपरा ने देश में फायदा किया है, कोरोना काल में हल्दी समेत अन्य चीज़ों ने इम्युनिटी बूस्टर का काम किया है.

पीएम मोदी ने कहा कि कोरोना काल में आज दुनिया आयुर्वेद को लेकर जानना चाहती है और रिसर्च कर रही है. पीएम ने कहा कि देश में वैक्सीन पर ट्रायल चल रहा है, साथ ही दुनिया के करीब सौ से अधिक स्थानों पर आयुर्वेद की औषधि को लेकर रिसर्च चल रही है.

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि ये हमेशा से स्थापित सत्य रहा है कि भारत के पास आरोग्य से जुड़ी कितनी बड़ी विरासत है. लेकिन ये भी उतना ही सही है कि ये ज्ञान ज्यादातर किताबों में, शास्त्रों में रहा है और थोड़ा-बहुत दादी-नानी के नुस्खों में, इस ज्ञान को आधुनिक आवश्यकताओं के अनुसार विकसित किया जाना आवश्यक है. मुझे विश्वास है कि हमारे साझा प्रयासों से आयुष ही नहीं बल्कि आरोग्य का हमारा पूरा सिस्टम एक बड़े बदलाव का साक्षी बनेगा.

पीएम मोदी ने कहा कि बदलते समय के साथ आज हर चीज इंटीग्रेट हो रही है, स्वास्थ्य भी इससे अलग नहीं है. इसी सोच के साथ देश आज इलाज की अलग-अलग पद्धतियों के इंटीग्रेशन के लिए एक के बाद एक महत्वपूर्ण कदम उठा रहा है, इसी सोच ने आयुष को देश की आरोग्य नीति का अहम हिस्सा बनाया है.

गौरतलब है कि गुजरात के जामनगर में आयुर्वेद शिक्षण और अनुसंधान संस्थान को राष्ट्रीय महत्व के संस्थान का दर्जा दिया गया है. जयपुर में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान को मानद विश्वविद्यालय का दर्जा दिया गया है. इन दोनों संस्थानों का उद्घाटन पीएम मोदी को करना है. इस कार्यक्रम में पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए शामिल होंगे.

इसे आयुर्वेद की शिक्षा के आधुनिकीकरण की दिशा में ऐतिहासिक कदम बताते हुए जानकार कहते हैं कि इससे आयुर्वेद शिक्षण का स्तर बढ़ेगा और अनुसंधान को भी बढ़ावा मिलेगा. बता दें कि साल 2016 से ही देश में धनवंतरी जयंती को आयुर्वेद दिवस के रूप में मनाया जा रहा है. इस बार आयुर्वेद दिवस की थीम कोरोना वायरस की महामारी के प्रबंधन में आयुर्वेद की भूमिका रखी गई है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0