UP: बदमाशों ने गलती से दूसरे कारोबारी को कर लिया अगवा, जंगल में छोड़कर हुए फरार

उत्तर प्रदेश के बागपत में कुछ बदमाशों ने एक सरिया कारोबारी को अगवा कर लिया और उसके परिवार से 1 करोड़ की फिरौती की मांग कर दी. कोरोबारी के गायब

उत्तर प्रदेश में जमीन खोती क्षेत्रीय पार्टियां, हाथरस पर पिछड़ी सपा-बसपा
Sushant Singh Rajput Case: हत्या या आत्महत्या, एम्स पैनल ने सीबीआई को सौंपी रिपोर्ट
हाथरस पर बीजेपी को घेर रही थी RJD, दलित नेता की हत्या पर ‘फंसे’ तेजस्वी
सरिया कारोबारी अगवा

उत्तर प्रदेश के बागपत में कुछ बदमाशों ने एक सरिया कारोबारी को अगवा कर लिया और उसके परिवार से 1 करोड़ की फिरौती की मांग कर दी. कोरोबारी के गायब होते ही यूपी पुलिस फौरन हरकत में आ गई. फिरौती की मांग के बाद पुलिस ने जिले के सभी बॉर्डर को सील करके तलाशी अभियान शुरू कर दिया. पुलिस के मुताबिक अपराधियों ने दबाव में आकर कुछ ही घंटों में कारोबारी को एक जंगल में छोड़कर फरार हो गए. हालांकि अगवा होने वाले कारोबारी आदेश जैन के मुताबिक कहानी कुछ और ही निकली.

सरिया कारोबारी अगवा

सरिया कारोबारी ने अपराधियों के चंगुल से छूटने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि अपराधी ने उन्हें यह कहकर जंगल में छोड़ दिया कि गलती से आपको उठा लिया. आदेश जैन के मुताबिक अपराधी उन्हें नहीं बल्कि किसी और को अगवा करना चाहते थे लेकिन गलती से उनका अपहरण कर लिया.

सरिया कारोबारी अगवा

वहीं जंगल से कारोबारी की बरामदगी के बाद पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पूरी घटना की जानकारी दी. मेरठ जोन के एडीजी राजीव सभरवाल ने कहा कि पुलिस कर्मियों की बड़ी तैनाती देखकर अपहरणकर्ता भाग गए.

सरिया कारोबारी अगवा

उन्होंने कहा, “हमें उनके बारे में कुछ जानकारी मिली है, जिसके माध्यम से हम उन्हें पकड़ने की कोशिश कर रहे हैं,” कारोबारी आदेश जैन को उस वक्त अगवा किया गया था जब वो सुबह 5 बजे भगवान महावीर मार्ग में अपनी दुकान जाने के लिए घर से निकले थे. इससे पहले कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की स्थिति को लेकर योगी आदित्यनाथ सरकार पर ट्विटर के जरिए निशाना साधा था.

सरिया कारोबारी अगवा

प्रियंका गांधी ने हिंदी में ट्वीट करते हुए लिखा था, “आज सुबह बागपत में एक लोहे के व्यापारी का अपहरण कर लिया गया. यूपी में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं, व्यापारी सुरक्षित नहीं हैं, बच्चे सुरक्षित नहीं हैं, चुनावी सभाओं में सिर्फ खोखले भाषण दिए जाते हैं.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0