अगले हफ्ते एक और आईपीओ में निवेश का मौका, पैसा रखें तैयार

एक और आईपीओ में निवेश का मौकाअगले हफ्ते शेयर बाजार में एक और आईपीओ में निवेश का मौका मिल रहा है. एंटनी वेस्ट हैंडलिंग सेल लिमिटेड (A

कैसे बनें स्मार्ट निवेशक? राह आसान है, केवल अपनाएं ये 5 फॉर्मूले
शेयर बाजार में हाहाकार, सेंसेक्स 550 अंक टूटा, निफ्टी 11 हजार के नीचे
5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी का टारगेट, ग्लोबल इनवेस्टर्स से आज राउंडटेबल मीटिंग करेंगे पीएम मोदी
एक और आईपीओ में निवेश का मौका एक और आईपीओ में निवेश का मौका

अगले हफ्ते शेयर बाजार में एक और आईपीओ में निवेश का मौका मिल रहा है. एंटनी वेस्ट हैंडलिंग सेल लिमिटेड (AWHC) का 300 करोड़ रुपये का प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) 21 दिसंबर यानी सोमवार को निवेश के लिए खुलेगा.

इसके लिए प्राइस बैंड 313 से 315 रुपये प्रति शेयर तय किया गया है. कंपनी ने एक बयान में बताया है कि इस आईपीओ में 85 करोड़ नये शेयर जारी किये जाएंगे, जबकि 68 लाख 24 हजार 993 शेयर मौजूदा शेयरधारकों द्वारा बेचे जाएंगे.

इस साल आईपीओ से जबरदस्त कमाई

गौरतलब है कि इस साल आईपीओ से निवेशकों ने जबरदस्त कमाई की है. हाल में आया बर्गर किंग का आईपीओ तो इस साल सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाले ऑफर में से रहा है. मिसेज बेक्टर्स फूड का आईपीओ भी जल्द ही शेयर बाजार में लिस्ट होगा.

इन आईपीओ ने लिस्ट होने के बाद भी बाजार में जबरदस्त रिटर्न दिया है. बर्गर किंग के शेयर की कीमत तीन दिन के भीतर ही लिस्ट प्राइस से 265 फीसदी तक बढ़ गयी. जानकारों का कहना है कि दुनियाभर के निवेशक जिस तरह से भारतीय बाजारों में पैसा लगा रहे हैं, उससे आने वाले दिनों में भी बाजार गुलजार रह सकता है और आईपीओ से निवेशकों को पैसा बनाने का मौका मिल सकता है.

क्या करती है एंटनी वेस्ट हैंडलिंग सेल 

एंटनी वेस्ट हैंडिलिंग सेल लिमिटेड असल में कचरा प्रबंधन यानी वेस्ट मैनेजमेंट से जुड़ी कंपनी है. यह देश में ठोस कचरा प्रबंधन सेवाओं के क्षेत्र में टॉप फाइव कंपनियों में शुमार है.

कंपनी के मौजूदा शेयरधारकों में टोनब्रिज (मारीशस) लिमिटेड, लीड्स (मारीशस) लिमिटेड, कैंम्ब्रिज (मारीशस) लिमिटेड और गिल्डफोर्ड (मारीशस) लिमिटेड शेयर बिक्री पेशकश के तहत अपने शेयरों को पेश कर रहे हैं.

तीन दिन तक खुला रहने वाला यह आईपीओ 23 दिसंबर को बंद हो जाएगा. शेयर के लिये तय किये गये मूल्य दायरे के ऊपरी स्तर के लिहाज से देखें तो कंपनी करीब 300 करोड़ रुपये की रकम जुटा सकती है. आईपीओ से प्राप्त होने वाली राशि का आंशिक इस्तेमाल कंपनी पिंपरी चिंचवाड़ में कचरे से बिजली बनाने की परियोजना में करेगी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0