पीएम मोदी आज दिखाएंगे 100वीं किसान रेल को हरी झंडी, जानें क्या है खासियत?

आज 100वीं किसान रेल की शुरुआतभारतीय रेलवे ने इसी साल 7 अगस्त को किसान रेल की शुरुआत की थी. उसके बाद से सिर्फ 5 महीने के भीतर अ

मुकेश अंबानी की संपत्ति में भारी गिरावट, टॉप अमीरों की लिस्ट में 3 पायदान नीचे फिसले
शानदार कमाई का एक और मौका, आज खुलेगा Mrs Bectors Food का IPO
RIL बना दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा ब्रांड, अब Apple के ताज पर भी खतरा

आज 100वीं किसान रेल की शुरुआत (फाइल फोटो: PIB)

आज 100वीं किसान रेल की शुरुआत

भारतीय रेलवे ने इसी साल 7 अगस्त को किसान रेल की शुरुआत की थी. उसके बाद से सिर्फ 5 महीने के भीतर अब 100वीं किसान रेल चलने जा रही है, जिसे पीएम मोदी आज हरी झंडी​ दिखाएंगे. आइए जानते हैं कि क्या इस ट्रेन की खासियत और यह क्यों है महत्वपूर्ण?

100वीं किसान ट्रेन कहां से कहां तक 

ऐसी 100वीं किसान रेल आज शाम 4:30 बजे मोदी जी द्वारा रवाना की जाएगी. यह महाराष्ट्र के सांगोला से पश्चिम बंगाल के शालिमार तक चलेगी. 2132 किमी की दूरी यह ट्रेन 40 घंटे से कम समय में तय करेगी. इस ट्रेन के द्वारा संगोला के अनार, नागपुर के संतरे तथा जेउर, बेलवंडी, कोपरगांव के खरबूजा पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर तक पहुंचेंगे. इस ट्रेन से फलों-सब्जियों जैसे ऐसे आइटम की ढुलाई की जाती है जो जल्दी खराब हो जाते हैं.

फल-सब्जियों की ढुलाई में किसानों को 50% छूट

रेल मंत्रालय ने अक्टूबर में ऐलान किया था कि किसान रेल में फल-सब्जियों की ढुलाई में 50 फीसदी सब्सिडी दी जाएगी. यह सब्सिडी ऑपरेशन ग्रीन-टॉप टू टोटल (Operation Green-TOP to Total) योजना के तहत दी जा रही है. रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा था कि सब्जियों व फलों को किसान रेल द्वारा ट्रांसपोर्ट करने में सब्सिडी को 50% कर दिया गया है.

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय ने पायलट आधार पर छह महीने के लिए ऑपरेशन ग्रीन योजना का विस्तार कर टमाटर, प्याज और आलू (टॉप) से लेकर सभी फल एवं सब्जियों (टोटल) को इसके दायरे में लाने की घोषणा की थी.

पहली ट्रेन महाराष्ट्र से बिहार तक कहां से कहां तक

ऐसी पहली ट्रेन इस साल 7 अगस्त को महाराष्ट्र से बिहार तक के लिए चली थी. यह ट्रेन महाराष्ट्र के देवलाली स्टेशन से बिहार के दानापुर स्टेशन तक जाती है. यह अपनी यात्रा में करीब 32 घंटे लगाती है. रेलवे मंत्री पीयूष गोयल और केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के इसकी शुरुआत की थी.

क्या है खासियत

किसान रेल में रेफ्रिजरेटेड कोच लगे होंगे. इसे रेलवे ने 17 टन की क्षमता के साथ नए डिजायन के रूप में निर्मित करवाया है. इसे रेल कोच फैक्ट्री कपूरथला में बनाया गया है. इस ट्रेन में कंटेनर फ्रीज की तरह होते हैं. मतलब यह एक चलता-फिरता कोल्ड स्टोरेज होता है, इसमें किसान खराब होने वाले सब्जी, फल, फिश, मीट, मिल्क आदि रख सकते हैं.

इससे सब्जियों, फलों, मांस, मछली और दूध जैसे जल्दी खराब होने वाले कृषि उत्पादों को इनके पैदावार वाले इलाकों से उन इलाकों में पहुंचाया जाएगा जहां इनका अच्छा बाजार है.

बजट में हुआ था ऐलान

दरअसल, केंद्र से साल 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है. इसी कड़ी में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने फरवरी में बजट भाषण के दौरान ऐलान किया था कि किसान फल-सब्जी देश के उन शहरों में बेच सकते हैं, जहां उन्हें उसकी अच्छी कीमत मिलेगी. इसके लिए किसान रेल चलाई जाएगी. इस सार्वजनिक निजी भागीदारी (PPP) योजना के तहत शीत भंडारण के साथ किसान उपज के परिवहन की व्यवस्था होगी.

सबसे पहले ममता बनर्जी ने रखा था प्रस्ताव

एयरकंडीशनिंग की सुविधा के साथ फल एवं सब्जियों को लाने ले जाने की सुविधा का प्रस्ताव पहली बार 2009-10 के बजट में उस समय रेल मंत्री रहीं ममता बनर्जी ने किया था, लेकिन इसकी शुरुआत नहीं हो सकी.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0