भारत में सैमसंग अगले पांच साल में 3.7 लाख करोड़ की कीमत के मोबाइल फोन मैन्युफैक्चर करने की कर रहा प्लानिंग

सैमसंग भारत में अगले पांच साल में 3.7 लाख करोड़ की कीमत के मोबाइल फोन मैन्युफैक्चर करने की तैयारी कर रही है. देश में फोन की मैन्युफैक्चरिंग को तेज क

बीते दो साल में सबसे महंगा हो चुका है पेट्रोल, 84 रुपये लीटर के करीब पहुंचा, जेब पर पड़ रहा है भारी
जम्मू-कश्मीरः बिजली-पानी के बिल पर 50% की छूट, LG मनोज सिन्हा ने किया ऐलान
राहुल गांधी का बढ़ती बेरोजगारी को लेकर मोदी सरकार पर निशाना, कहा- अब अर्थव्यवस्था का सच नहीं छुप नहीं सकता

सैमसंग भारत में अगले पांच साल में 3.7 लाख करोड़ की कीमत के मोबाइल फोन मैन्युफैक्चर करने की तैयारी कर रही है. देश में फोन की मैन्युफैक्चरिंग को तेज करने के लिए सरकार ने ‘विनिर्माण के लिए पहल’ (पीएलआई) योजना शुरू की है.

नई दिल्ली: सैमसंग इंडिया अगले पांच साल में देश में 3.7 लाख करोड़ रुपये के मूल्य मोबाइल फोन मैन्युफैक्चर करने की प्लानिंग कर रही है. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को यह जानकारी दी. कंपनी ने इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ अपनी योजना साझा की है.

सरकार ने शुरू की PLI योजना
देश में फोन की मैन्युफैक्चरिंग को तेज करने के लिए सरकार ने ‘विनिर्माण के लिए पहल’ (पीएलआई) योजना शुरू की है. कंपनी इस योजना के तहत 15,000 रुपये से ज्याद की कीमत वाले 2.2 लाख करोड़ रुपये मूल्य के स्मार्टफोन मैन्युफैक्चर करेगी.

सैमसंग बनाएगा 3.7 लाख करोड़ के मोबाइल
एक अधिकारी के मुताबिक सैमसंग की अगले पांच साल में 50 अरब डॉलर (3.7 लाख करोड़ रुपये) मूल्य के फोन मैन्युफैक्चरिंग की योजना है. इसमें से 30 अरब डॉलर मूल्य के स्मार्टफोन का उत्पादन पीएलआई योजना के तहत किया जाएगा. हालांकि इस संबंध में सैमसंग ने कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है. ना ही भेजे गए ई-मेल का जवाब दिया है.

ये कंपनियां भी करेंगी मैन्यूफैक्चरिंग
सैमसंग के अलावा कई डोमेस्टिक और ग्लोबल मोबाइल फोन मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों ने सरकार की पीएलआई योजना के तहत फोन मैन्युफैक्चरिंग के लिए अप्लाई किया है. इसमें विस्ट्रॉन, पेगाट्रॉन, फॉक्सकॉन और होन हाई जैसी ग्लोबल कंपनियों के साथ-साथ लावा, डिक्सन, माइक्रोमैक्स, पेजेट इलेक्ट्रॉनिक्स, सोजो और ऑप्टिमस जैसी कंपनी शामिल हैं. सरकार को पीएलआई योजना के तहत अगले पांच साल में देश में 11 लाख करोड़ रुपये की कीमत के मोबाइल फोन उत्पादन की उम्मीद है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0