GDP में आजादी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट की आशंका, राहुल बोले- मोदी है तो मुमकिन है

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर अर्थव्यवस्था के मसले पर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट की आशंका पर राहुल ने पीएम

19 facts about military records that will impress your friends
हैदराबाद: भारी बारि‍श से मलबे में दफन हो गईं कार-बाइक्स, ऐसा दिखा तबाही का मंजर
शेयर बाजार में बिकवाली बढ़ी, सेंसेक्स 300 अंक टूटा, निफ्टी भी धड़ाम

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बार फिर अर्थव्यवस्था के मसले पर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. जीडीपी में ऐतिहासिक गिरावट की आशंका पर राहुल ने पीएम को घेरा है.

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (PTI)कांग्रेस नेता राहुल गांधी (PTI)
  • राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर तीखा वार
  • अर्थव्यवस्था की बिगड़ती स्थिति पर घेरा

कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए संकट का असर सबसे अधिक अर्थव्यवस्था पर पड़ा है. इन्फोसिस के को-फाउंडर एन. नारायण मूर्ति ने आशंका जताई है कि इस बार आजादी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट GDP में दिखेगी. इसी बयान के सहारे अब कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. राहुल ने इस बयान को साझा करते हुए लिखा, ‘मोदी है तो मुमकिन है’.

दरअसल, कोरोना काल से पहले ही भारत की जीडीपी में गिरावट देखने को मिल रही थी, जिसके बाद लॉकडाउन के कारण इसमें और भी झटका लग गया. दुनिया की कई एजेंसियों ने भारत की जीडीपी में 9 फीसदी तक की गिरावट की बात कही थी.

इसी बीच अब नारायणमूर्ति का बयान सामने आया है, उन्होंने कहा ‘अर्थव्यवस्था को जल्द से जल्द पटरी पर लाया जाना चाहिए. इस बार सकल घरेलू उत्पाद (GDP) में आजादी के बाद के सबसे बड़ी गिरावट दिख सकती है.’

कोरोना संकट की वजह से देश की GDP में आ सकती है आजादी के बाद की सबसे बड़ी गिरावट: नारायणमूर्ति

गौरतलब है कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी लगातार कोरोना संकट और अर्थव्यवस्था के मसले पर केंद्र सरकार को घेरते आए हैं. राहुल गांधी लगातार ट्वीट कर, वीडियो साझा कर और एक्सपर्ट्स से बात कर केंद्र पर निशाना साध रहे हैं. हाल ही में यूथ कांग्रेस की ओर से रोजगार दो कैंपेन चलाया गया था.

इसमें कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने इस दौरान केंद्र पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हर साल दो करोड़ नई नौकरी देने का वादा किया था, लेकिन अबतक 14 करोड़ लोग अपनी नौकरियां गंवा चुके हैं. इस सबके लिए मोदी सरकार की गलत नीतियां जिम्मेदार हैं.

बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस के कारण अर्थव्यवस्था की हालत खस्ता है, भारत का भी एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट पर रोक लगी है. ऐसे में बाजार पूरी तरह से ठप हो गया है, अब जाकर जब लॉकडाउन खुला है तो आंकड़े ठीक होते दिख रहे हैं लेकिन इसमें भी लंबा वक्त है.

COMMENTS

WORDPRESS: 0
DISQUS: 0